Rheumatoid Arthritis , Psoriatic Arthritis , Natural body-pain reliever , Prevents Arthritis-relieves joint stiffness ,

क्या है गठिया (Arthritis) का दर्द ?

जोड़ो में होने वाली सूजन और दर्द से जुड़े रोग को गठिया (Arthritis) कहते है। इस तरह की समस्या लोगो में 50 की उम्र के बाद पाया जाता है।

जो उनके हड्डियों में यूरिक एसिड जमा होने के कारण होता है, क्योकि हड्डियों में जमा यूरिक एसिड गठिया का रूप ले लेता है और जब रोगी ज्यादा देर तक कही बैठ जाता है या सो जाता है, तो फिर उन्हें अचानक उठने में तकलीफ होती है।

गठिया के वजह से उनके जोड़ो में दर्द, अकड़न और सूजन हो जाती है, जो उनके सीधी-साधी सरल जिंदगी को पीड़ादायक बना देती है। क्योकि अगर गठिया की समस्या ज्यादा बढ़ जाती है तो समय के साथ चलने फिरने में भी काफी दिक्कत होने लगती है।

गठिया का दर्द रोगियों को नियमित दवा सेवन का आदि तो बना ही देता है, लेकिन फिर भी रोगी अपने में कोई खास सुधार नहीं देखते है। जबकि प्राकृतिक पद्दति और जैविक औषिधि से गठिया का इलाज संभव है, क्योकि गठिया से पीड़ित लोगो पर ये विकल्प बहुत ही कारगर साबित हुआ है।

गठिया (Arthritis) का दर्द और आम दर्द को कैसे पहचाने

दर्द एक एहसास है जो शरीर में होने वाली समस्याओं का संकेत देता है।दर्द के एहसास होने की दो वजह होती है, शरीर पर लगने वाली बाहरी चोट और शरीर में होने वाली आंतरिक समस्या।

दर्द मुख्य रूप से दो प्रकार के होते है, पहला अल्पकालिक दर्द (Acute pain) और दूसरा दीर्घकालिक दर्द (Chronic Pain)।

दोनों ही दर्द के प्रकार है, अंतर बस इतना है की अल्पकालिक दर्द (Acute pain) एक निश्चित समय में शरीर में होने वाली समस्या के खत्म होने के साथ ही दूर हो जाता है।

जबकि दीर्घकालिक दर्द (Chronic Pain) में ऐसा नहीं होता है, दर्द लम्बे समय तक रहने के साथ बार-बार वापस से होता ही रहता है, जिससे लोगो का सामान्य जीवन प्रभावित व पीड़ादायक हो जाता है। गठिया (Arthritis) का दर्द उसी में से एक है।

गठिया (Arthritis) के दर्द का इलाज

ऐसे बहुत सारे रोग है जिसका इलाज महंगी दवा और बड़े – बड़े सर्जरी से संभव नहीं हो पाता है, लेकिन प्रकृति में मौजूद जैविक औषिधि सभी प्रकार के बीमारियों से लड़ने में सक्षम है।

क्योकि औषिधियो से होने वाले उपचार असरदार होने के साथ – साथ प्राचीन और प्रमाणित भी है, और जैविक औषिधि ही हर तरह के इलाज की दवा का आधार है।

इसी कड़ी में बगदरा फार्म एक ऐसी अनोखी संस्था है जो प्राकृतिक तरह से उपजाए गए जैविक औषिधि से अलग – अलग बीमारियों के उपचार के लिए उत्पाद तैयार करती है और बगदरा फार्म के पास गठिया जैसे बीमारी के इलाज के लिए भी एक खास जैविक उत्पाद मौजूद है, जिसका नाम CALMYA है।

बगदरा फार्म का जैविक उत्पाद CALMYA प्राकृतिक तरीके से तैयार किया गया है, जो बिना किसी दुष्प्रभाव के चोट और बीमारियों से होने वाले दर्द को नियंत्रित करने में सक्षम है।

खासकर CALMYA गठिया से होने वाले दर्द के निजात में रामबाण का काम करता है। CALMYA के अंदर खास जैविक औषधि करक्यूमिन मौजूद है, जिसका दर्दनिवारक और सूजनरोधी चिकित्सीय गुण हर तरह के सूजन और दर्द से लड़ने में सक्षम है।

गठिया के रोग का उपचार
Arthritis गठिया के रोग से दिलाएगा निजात

CALMYA में मौजूद ये गुण गठिया से दिलाएगा निजात

• CALMYA एक दर्दनिवारक उत्पाद है जिसमे दर्दरोधी गुण मौजूद है, जो बिना किसी दुष्प्रभाव के हड्डियों में होने वाले कठोरता को कम करता है।

• CALMYA में सूक्ष्मजीवरोधी गुण होने के कारण, ये सूक्ष्मजीवों से होने वाले संक्रमण को भी रोकता है।

• CALMYA न सिर्फ सूजन और दर्द को कम करता है बल्कि ये गठियारोधी दवाओं के दुष्प्रभाव को भी दूर करता है।

• CALMYA में सूजनरोधी गुण भी मौजूद है जो अलग-अलग कारणों से होने वाले सूजन के दर्द को भी कम करता है।

• अपने ऑक्सीडेंट-रोधी गुण से CALMYA शरीर में होने वाले सभी प्रकार के ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को कम करता है।

• CALMYA rheumatoid-गठिया के इलाज के लिए सबसे अच्छा उपचार है, इसके साथ ही सूजन को कम और गठिया को दूसरे जोड़ो तक पहुंचने से रोकता है।

• CALMYA से समग्र शरीर के गतिविधि संचालन में सुधार आता है।

इस तरह करना है CALMYA का सेवन

CALMYA का सेवन करना बहुत ही आसान है। जिसके लिए आप 200 से 250 ml यानि 2 कप पानी में आधी छोटी चम्मच CALMYA डाले, उसके साथ ही एक चुटकी काली मिर्च मिला तब तक उबाले, जब तक की वो एक कप के बराबर न हो जाये (नोट: 6 से 9 साल के बच्चो के लिए, छोटी चम्मच का एक चौथाई CALMYA डाले),

उसके बाद उसे कप में निकाल आधा चम्मच शहद और निम्बू की कुछ बुँदे मिला ले , फिर सिप-सिप कर के पिए। याद रहे इस ड्रिंक को गट-गट कर के नहीं पीना है बल्कि आराम से एक सिप ले कम से कम 20-30 सेकंड अपने मुंह में रखे फिर गटके।

बेहतर रिजल्ट के लिए CALMYA का सेवन इसी तरह दिन में दो बार करना है, सुबह खाली पेट नास्ता से लगभग २ घंटे पहले और शाम को खाने के २ घंटे बाद।

ऑनलाइन करे CALMYA आर्डर

आप बगदरा फार्म की वेबसाइट bagdarafarms.com पर जाकर प्रोडक्ट सेक्शन से CALMYA आर्डर कर सकते है या हमे +91 9560254646 सम्पर्क कर प्रोडक्ट आर्डर करवा सकते है, साथ ही उसके बारे में जानकारी भी ले सकते है।

नोट : हमारा उत्पाद केवल हमारे वेबसाइट bagdarafarms.com पर ही उपलब्ध है अन्य किसी वेबसाइट पर हमारा उत्पाद नहीं मिलता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Clinical Trial & Our Product

Since health care & medicine is an industry, formulations are controlled through intellectual property rights denying easy access to common people and maintaining the buoyancy for the interest holders. Formula’s can be patented and that covers business interests that drive innovations these days.

So instead of conducting trials on the raw root, almost all companies promote clinically tested formulations of extracts to make it appear better then how the phytochemical was in its original state. Its like extracting an important organ from the body and then putting it on support system, expecting it to perform better in insolation then how it could perform when in it was in its natural form. The truth is, that the best way to consume a plant based medicine is in its raw form. Curcumin is one of the active ingredients in the root Curcuma Longa.

Since its more important to know what your food ate then what you ate, its important to know that the supplements you are using based on curcumin has curcumin from a gene modified variety of curcuma longa which suffers from an imbalance of every other mineral. You see a plant also behaves how a human body behaves when it is injected with steroids to gain muscle mass for body building purpose. The plants have higher levels of curcumin but all other secondary minerals found along curcumin in the plant get compromised as the plant can not feed all nutritions equally when it is designed to feed most of its nutrition towards developing higher levels of curcumin. It has severe side effects on the health of the plant and apparently on the people consuming such plants or extracts coming from these plants. However marketing and promotions have evolved to divert attention very wisely.

An extract of any herb can never be stored in its original state and hence needs base agents, preservatives which hardly leave it how it must be. We believe that access to medicine and healthcare is a basic right of every human and animal living on planet earth. Hence we do not first extract and then add preservatives or agents like pepperine to make the extract bio-available. This is the reason we never patent any of our products. We instead hand process the whole root we cultivate in our farms and share it with the people under different brand names for different health conditions based on the concentration of minerals present at testing. You can also buy the seed from us and cultivate it but it will certainly not be as potent as you get from us.

How potent is the active ingredient in the plant depends on the quality of seed, soil, water and environment. Our products work far better then most of the curcumin based supplements globally being used for Therapeutic benefits.

We do not intend to formulate or patent our products. So instead of choosing a supplement with an extract, choose wisely and go for the best and not the Cheapest.

All our products are cultivated, harvested, hand processed and distributed directly from our own farms to ensure that people who depend on our products for their acute and chronic problems get consistent supply of highest quality, ultra premium, medicinal grade, Non-GMO, Indigenous, Naturally enriched with curcumin, Wild Strand curcuma longa powder for therapeutic benefits. We cultivate this in the middle of a national park which happens to be the best breeding ground for Bengal tigers in India called Bandhavgarh.